Explore these ideas and much more!

Explore related topics

13-14 जुलाई 2016। अपने-अपने गांव से लाए पौधे एवं पानी नया रायपुर में अर्पण करने आए कोंडागांव के पंचायत जनप्रतिनिधि। पौधा लगाकर वे अपने गांव की मिट्टी को शहर की मिट्टी के साथ मिलता हुआ देखते हैं। यह महज एक वृक्षारोपण की प्रक्रिया नहीं, बल्कि अपनी भावनाओं को शहर के साथ जोड़कर अपना बनाना हैै।

13-14 जुलाई 2016। अपने-अपने गांव से लाए पौधे एवं पानी नया रायपुर में अर्पण करने आए कोंडागांव के पंचायत जनप्रतिनिधि। पौधा लगाकर वे अपने गांव की मिट्टी को शहर की मिट्टी के साथ मिलता हुआ देखते हैं। यह महज एक वृक्षारोपण की प्रक्रिया नहीं, बल्कि अपनी भावनाओं को शहर के साथ जोड़कर अपना बनाना हैै।

13-14 जुलाई 2016, बस्तर जिले के पंचायत जनप्रतिनिधियों ने इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय में कृषि से जुड़ी तकनीकों एवं यंत्रों को देखा, उनका महत्व समझा और इस्तेमाल करके देखा. विश्वविद्यालय स्थित जेनेटिक्स एण्ड प्लांट ब्रिडिंग के ज्ञान केंद्र में प्रतिनिधियों ने धान की विशिष्ट कृषक प्रजातियाँ देखी. विश्वविद्यालय द्वारा दिए गए अलग-अलग कृषि एवं सिंचाई योजना के ब्रोशर उन्होंने पढ़ा एवं सुरक्षित अपने साथ रखे. प्रदर्शन एवं तकनीकी स्थानांतरण केंद्र में फूलों की क्यारियां प्रतिनिधियों को बहुत अच्छी…

13-14 जुलाई 2016, बस्तर जिले के पंचायत जनप्रतिनिधियों ने इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय में कृषि से जुड़ी तकनीकों एवं यंत्रों को देखा, उनका महत्व समझा और इस्तेमाल करके देखा. विश्वविद्यालय स्थित जेनेटिक्स एण्ड प्लांट ब्रिडिंग के ज्ञान केंद्र में प्रतिनिधियों ने धान की विशिष्ट कृषक प्रजातियाँ देखी. विश्वविद्यालय द्वारा दिए गए अलग-अलग कृषि एवं सिंचाई योजना के ब्रोशर उन्होंने पढ़ा एवं सुरक्षित अपने साथ रखे. प्रदर्शन एवं तकनीकी स्थानांतरण केंद्र में फूलों की क्यारियां प्रतिनिधियों को बहुत अच्छी…

13-14 जुलाई 2016। नारायणपुर जिले के पंचायत जनप्रतिनिधियों ने अपने गांव से लाए हुए पौधों को नया रायपुर में लगाया। महिलाओं ने छोटे-छोटे पौधों को अपनी ममता के आंचल में पल रहे बच्चों की तरह प्यार एवं दुलार दिया।

13-14 जुलाई 2016। नारायणपुर जिले के पंचायत जनप्रतिनिधियों ने अपने गांव से लाए हुए पौधों को नया रायपुर में लगाया। महिलाओं ने छोटे-छोटे पौधों को अपनी ममता के आंचल में पल रहे बच्चों की तरह प्यार एवं दुलार दिया।

13-14 जुलाई 2016, कांकेर पंचायत जनप्रतिनिधियों ने इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय के अलग-अलग विभागों में भ्रमण कर सिंचाई एवं कृषि से जुड़ी अन्य तकनीकों को समझा। विश्वविद्यालय परिसर में लगाई गई फसलों को उन्होंने रूककर करीब से देखा।

13-14 जुलाई 2016, कांकेर पंचायत जनप्रतिनिधियों ने इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय के अलग-अलग विभागों में भ्रमण कर सिंचाई एवं कृषि से जुड़ी अन्य तकनीकों को समझा। विश्वविद्यालय परिसर में लगाई गई फसलों को उन्होंने रूककर करीब से देखा।

13-14 जुलाई 2016। नया रायपुर स्थित पुरखौती मुक्तांगन कोंडागांव से आए जनप्रतिनिधियों के लिए कई तरह से मनोरंजन साबित हुआ। एक तरफ तो उन्होंने अलग-अलग तरह की छत्तीसगढ़ी नृत्यों की कलाकृतियों को देखा तो दूसरी ओर मुक्तांगन परिसर में जिलेवासियों के लिए आयोजित सांस्कृतिक कार्यक्रम से उनके चेहरे खिल उठे।

13-14 जुलाई 2016। नया रायपुर स्थित पुरखौती मुक्तांगन कोंडागांव से आए जनप्रतिनिधियों के लिए कई तरह से मनोरंजन साबित हुआ। एक तरफ तो उन्होंने अलग-अलग तरह की छत्तीसगढ़ी नृत्यों की कलाकृतियों को देखा तो दूसरी ओर मुक्तांगन परिसर में जिलेवासियों के लिए आयोजित सांस्कृतिक कार्यक्रम से उनके चेहरे खिल उठे।

13-14 जुलाई 2016। नारायणपुर जिले के पंचायत जनप्रतिनिधियों ने 5-D डोम सिनेमा में दिखाई जाने वाले पृथ्वी, सौर मंडल एवं अन्य प्राकृतिक चमत्कारों को देखा।

13-14 जुलाई 2016। नारायणपुर जिले के पंचायत जनप्रतिनिधियों ने 5-D डोम सिनेमा में दिखाई जाने वाले पृथ्वी, सौर मंडल एवं अन्य प्राकृतिक चमत्कारों को देखा।

बस्तर, नारायणपुर, कांकेर और कोंडागांव जिले से आए पंचायत जनप्रतिनिधियों ने छत्तीसगढ़ विधान सभा भ्रमण के दौरान सभा की प्रणाली, समितियां, सचिवालय एवं सामान्य व्यवस्था को समझा। https://www.facebook.com/hamarcg2016/posts/988196037945249

बस्तर, नारायणपुर, कांकेर और कोंडागांव जिले से आए पंचायत जनप्रतिनिधियों ने छत्तीसगढ़ विधान सभा भ्रमण के दौरान सभा की प्रणाली, समितियां, सचिवालय एवं सामान्य व्यवस्था को समझा। https://www.facebook.com/hamarcg2016/posts/988196037945249

13-14 जुलाई 2016। अपने-अपने गांव से लाए पौधे एवं पानी नया रायपुर में अर्पण करने आए कोंडागांव के पंचायत जनप्रतिनिधि। पौधा लगाकर वे अपने गांव की मिट्टी को शहर की मिट्टी के साथ मिलता हुआ देखते हैं। यह महज एक वृक्षारोपण की प्रक्रिया नहीं, बल्कि अपनी भावनाओं को शहर के साथ जोड़कर अपना बनाना हैै।

13-14 जुलाई 2016। अपने-अपने गांव से लाए पौधे एवं पानी नया रायपुर में अर्पण करने आए कोंडागांव के पंचायत जनप्रतिनिधि। पौधा लगाकर वे अपने गांव की मिट्टी को शहर की मिट्टी के साथ मिलता हुआ देखते हैं। यह महज एक वृक्षारोपण की प्रक्रिया नहीं, बल्कि अपनी भावनाओं को शहर के साथ जोड़कर अपना बनाना हैै।

13-14 जुलाई 2016, कांकेर पंचायत जनप्रतिनिधियों ने इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय के अलग-अलग विभागों में भ्रमण कर सिंचाई एवं कृषि से जुड़ी अन्य तकनीकों को समझा। विश्वविद्यालय परिसर में लगाई गई फसलों को उन्होंने रूककर करीब से देखा।

13-14 जुलाई 2016, कांकेर पंचायत जनप्रतिनिधियों ने इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय के अलग-अलग विभागों में भ्रमण कर सिंचाई एवं कृषि से जुड़ी अन्य तकनीकों को समझा। विश्वविद्यालय परिसर में लगाई गई फसलों को उन्होंने रूककर करीब से देखा।

13-14 जुलाई 2016। नारायणपुर जिले के पंचायत जनप्रतिनिधियों ने अपने गांव से लाए हुए पौधों को नया रायपुर में लगाया। महिलाओं ने छोटे-छोटे पौधों को अपनी ममता के आंचल में पल रहे बच्चों की तरह प्यार एवं दुलार दिया।

13-14 जुलाई 2016। नारायणपुर जिले के पंचायत जनप्रतिनिधियों ने अपने गांव से लाए हुए पौधों को नया रायपुर में लगाया। महिलाओं ने छोटे-छोटे पौधों को अपनी ममता के आंचल में पल रहे बच्चों की तरह प्यार एवं दुलार दिया।

Pinterest
Search