तार्रुफ़ खुद से हुआ,

9 Pins189 Followers
तार्रुफ़ खुद से हुआ तो आइना शरमाया , सामने जो शख्स खड़ा था वो बहरूपिया निकला । हर्फ़ दर हर्फ़ का लहज़ा ग़र मोहब्बत ही मोहब्बत हो , तो

तार्रुफ़ खुद से हुआ तो आइना शरमाया , सामने जो शख्स खड़ा था वो बहरूपिया निकला । हर्फ़ दर हर्फ़ का लहज़ा ग़र मोहब्बत ही मोहब्बत हो , तो

तार्रुफ़ खुद से हुआ तो आइना शरमाया , सामने जो शख्स खड़ा था वो बहरूपिया निकला ।

तार्रुफ़ खुद से हुआ तो आइना शरमाया , सामने जो शख्स खड़ा था वो बहरूपिया निकला ।

तार्रुफ़ खुद से हुआ तो आइना शरमाया , सामने जो शख्स खड़ा था वो बहरूपिया निकला । हर्फ़ दर हर्फ़ का लहज़ा ग़र मोहब्बत ही मोहब्बत हो , तो

तार्रुफ़ खुद से हुआ तो आइना शरमाया , सामने जो शख्स खड़ा था वो बहरूपिया निकला । हर्फ़ दर हर्फ़ का लहज़ा ग़र मोहब्बत ही मोहब्बत हो , तो

तार्रुफ़ खुद से हुआ तो आइना शरमाया , सामने जो शख्स खड़ा था वो बहरूपिया निकला । हर्फ़ दर हर्फ़ का लहज़ा ग़र मोहब्बत ही मोहब्बत हो , तो

तार्रुफ़ खुद से हुआ तो आइना शरमाया , सामने जो शख्स खड़ा था वो बहरूपिया निकला । हर्फ़ दर हर्फ़ का लहज़ा ग़र मोहब्बत ही मोहब्बत हो , तो

तार्रुफ़ खुद से हुआ तो आइना शरमाया , सामने जो शख्स खड़ा था वो बहरूपिया निकला । हर्फ़ दर हर्फ़ का लहज़ा ग़र मोहब्बत ही मोहब्बत हो , तो

तार्रुफ़ खुद से हुआ तो आइना शरमाया , सामने जो शख्स खड़ा था वो बहरूपिया निकला । हर्फ़ दर हर्फ़ का लहज़ा ग़र मोहब्बत ही मोहब्बत हो , तो

तार्रुफ़ खुद से हुआ तो आइना शरमाया , सामने जो शख्स खड़ा था वो बहरूपिया निकला । हर्फ़ दर हर्फ़ का लहज़ा ग़र मोहब्बत ही मोहब्बत हो , तो

तार्रुफ़ खुद से हुआ तो आइना शरमाया , सामने जो शख्स खड़ा था वो बहरूपिया निकला । हर्फ़ दर हर्फ़ का लहज़ा ग़र मोहब्बत ही मोहब्बत हो , तो

तार्रुफ़ खुद से हुआ तो आइना शरमाया , सामने जो शख्स खड़ा था वो बहरूपिया निकला । हर्फ़ दर हर्फ़ का लहज़ा ग़र मोहब्बत ही मोहब्बत हो , तो

तार्रुफ़ खुद से हुआ तो आइना शरमाया , सामने जो शख्स खड़ा था वो बहरूपिया निकला । हर्फ़ दर हर्फ़ का लहज़ा ग़र मोहब्बत ही मोहब्बत हो , तो

तार्रुफ़ खुद से हुआ तो आइना शरमाया , सामने जो शख्स खड़ा था वो बहरूपिया निकला । हर्फ़ दर हर्फ़ का लहज़ा ग़र मोहब्बत ही मोहब्बत हो , तो

तार्रुफ़ खुद से हुआ तो आइना शरमाया , सामने जो शख्स खड़ा था वो बहरूपिया निकला । हर्फ़ दर हर्फ़ का लहज़ा ग़र मोहब्बत ही मोहब्बत हो , तो

तार्रुफ़ खुद से हुआ तो आइना शरमाया , सामने जो शख्स खड़ा था वो बहरूपिया निकला । हर्फ़ दर हर्फ़ का लहज़ा ग़र मोहब्बत ही मोहब्बत हो , तो

तार्रुफ़ खुद से हुआ तो आइना शरमाया , सामने जो शख्स खड़ा था वो बहरूपिया निकला । हर्फ़ दर हर्फ़ का लहज़ा ग़र मोहब्बत ही मोहब्बत हो , तो


More ideas
Pinterest
Search